बुरा ना सोचे – Hindi Short Stories With Moral

बुरा ना सोचे – Hindi Short Stories With Moral – अगर हम किसी का भला नहीं कर सकते तो हमे कम से कम किसी का बुरा तो नहीं सोचना चाहिए और किसी को गलत राह नहीं दिखानी चाहिए । ये कहानी आपको हमेशा अच्छा ही सोचने को प्रेरित करेगी ।

बुरा ना सोचे - Hindi Short Stories With Moral

बुरा ना सोचे – Hindi Short Stories With Moral

बुरा ना सोचे

एक भारतीय व्यक्ति लन्दन में अपने एक मित्र के घर ठहरा हुआ था।

उसका मालिक वहा दूध बांटता था। एक दिन उसकी लड़की बहुत उदास बैठी थी।

भारतीय मित्र ने पूछा, ‘बहन’ क्या बात है तुम आज इतनी उदास क्यों हो ?

वह चिंता से बोली, ‘क्या करूँ’ दूध की सप्लाई तो आज पूरी करनी है और मेरे पास आज दूध की मात्रा बहुत कम है। मुझे बड़ी चिंता हो रही है की मैं दूध की प्लाई आज कैसे पूरी कर पाऊँगी ।

उसने कहा, ‘यह इतनी चिंतित और इतनी उदास होने की बात नहीं है’ । वैसे भी तुम्हारे पास तो इतना अधिक दूध है, तुम थोड़ा-सा पानी मिला इसमें मिला दो, तुम्हारी समस्या खत्म हो जाएगी ।

यह सुनते ही वह अपने पिता के पास चलि गयी और जाकर बोली, किस दुष्ट व्यक्ति को आपने अपने घर में ठहराया हुआ है ?

वह तो ऐसी बुरी सलाह देता है की तुम दूध में पानी मिला दो।

क्या मैं ऐसा करके अपने राष्ट्र के नागरिको के स्वास्थ के प्रति अन्याय करूँ ?

ऐसी सलाह देने वाले को घर से निकल देना चाहिए ।

हद से ज्यादा स्वार्थीपन और एक-दूसरे से आगे निकलने की होड़ में कई बार लोगों को यह पता नहीं चलता की वे कब भ्रष्ट, अमानवीय और अराजक हो जाते हैं।

सीख-: अपने स्वार्थो के लिए दूसरों का अहित कभी ना करें।

यह एक छोटी सी स्टोरी है जिससे हर व्यक्ति को सीखना चाहिए । अगर आपको यह बहुत पसंद आयी तो इस कहानी को अवस्य पड़े “सही दिशा चुने – Inspirational Story In Hindi” आपको अच्छी लगेगी ।

Leave a Reply